ऐसे लक्ष्मी रहेगी आपके पास, धन की तीन गतियों का है जिक्र

बुरा कर्म करने वाले लोग इसका बुरा फल भी पाते हैं।  ऐसे में अगर आपको मां लक्ष्मी का कृपा पात्र बना रहना है तो आपको अच्छे कर्म करना चाहिए। 

धन का सदुपयोग करना चाहिए और साथ ही आपको झूठ बोलने और दूसरों को नुकसान पहुंचाने से बचना चाहिए। 

चाणक्य बताते हैं कि मनुष्य के जीवन में की गई गलतियां एक पेड़ के समान होती है। इसी के आधार पर उसे जीवन में दरिद्रता, दुख, रोग, बंधन और विपत्तियों का सामना करना पड़ता है ,ऐसे में सजा के तौर पर फल मनुष्य अपराध के हिसाब से अपने जीवन में भोगता है। 

चाणक्य कहते हैं कि आप जैसा फल या फसल बोएंगे आपको वैसा ही काटना होगा। ऐसे में धन को संजो कर रखने वालों पर हमेशा लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। 

लेकिन जो लोग धन की कद्र नहीं करते ऐसे लोगों के पास से लक्ष्मी सदा के लिए चली जाती है और दरिद्रता उनके घर वास करने लगती है। 

चाणक्य ये भी कहते हैं कि आप अपने अर्जित धन जो आपने नैतिक तरीके से अर्जित किए हैं उसका कुछ हिस्सा दान करें उसे सतकर्मों में लगाएं। 

लोगों की सहायता करें जिसे इसकी जरूरत है। जो व्यक्ति खूब धनी हो और कंजूस हो उसके पास लक्ष्मी नहीं टिकती।  उसका धन समय के साथ नष्ट हो जाता है। 

चाणक्य कहते हैं कि किसी को धोखा देकर और दुःख पहुंचाकर कमाया गया धन आपके पास ज्यादा देर तक नहीं टिकता और और कंगाल हो जाते हैं। 

ऐसे में इस तरह के कर्मों के जरिए अमीर होने की कोशिश तो बिल्कुल ना करें।