इस चीज को बर्दाश्त करना जहर के समान

जीवन में ऐसे परिस्थिति भी आती है जब गलतियों की वजह से व्यक्ति को अपमान सहन करना पड़ता है। 

लेकिन चाणक्य कहते हैं कि अगर बिना गलतियों के अपमान सहना पड़े तो वो जहर के घूंट के समान है। 

चाणक्य कहते हैं कि अगर कोई शख्स अपमान करें तो उसे एक बार सहना समझदारी है। दूसरी बार हुए अपमान को सहन करना उस शख्स के महान होने का परिचय देता है। 

लेकिन अगर तीसरी बार भी बेइज्जती सहनी पड़े तो ये व्यक्ति की मूर्खता कहलाती है। 

कई लोगों सहन शक्ति बहुत होती है, लेकिन बार-बार अपमान सहना आपकी छवि खराब कर सकता है। जीवन में ईर्ष्या रखने वाले, या असफल हुए व्यक्ति अक्सर दूसरों की सरेआम बेइज्जती करने की कोशिश करते हैं।  

चाणक्य कहते हैं कि अगर कोई बार-बार अपमान करें तो उसे ऐसा करने से रोकिए, क्योंकि जिस तरह बीता हुए कल वापस नहीं आता उसी प्रकार अगर आपने अपमान करने वाले को उसी वक्त जवाब नहीं दिया तो उसकी हिम्मत बढ़ जाएगी  और वो दोबारा सरेआम आपकी बेइज्जती करने की कोशिश करेगा। 

चाणक्य कहते हैं कि कोई बार-बार आपको नीचा दिखाने की कोशिश करें तो उसे फौरन टोक दें। 

ऐसा नहीं करने से व्यक्ति के मान-सम्मान में कमी आती है और फिर दूसरें भी आपको गलत बोलने से कतराते नहीं है।