रंक से राजा बना देती हैं आचार्य की ये बातें

मेहनत - कई इंसान अपनी जिंदगी को किस्मत या भाग्य के भरोसे छोड़ देते हैं और मेहनत से जी चुराने लगते हैं।

आचार्य चाणक्य के अनुसार, ऐसा करना काफी गलत होता है। जो इंसान मेहनत नहीं करते हैं और खुद को किस्मत के भरोसे छोड़ देते हैं। 

ऐसे लोग जीवन में कभी सफल हनी होते हैं। ऐसे में किस्मत के साथ जमकर मेहनत भी करनी चाहिए। 

वाणी - इंसान को हमेशा अपनी वाणी पर हमेशा कंट्रोल रखना चाहिए। 

वाणी ऐसी चीज है, जो इंसान को फर्श से अर्स तक पहुंचा सकती है और गर्त में भी डाल सकती है। 

ऐसे में हमेशा मीठी वाणी का ही इस्तेमाल करना चाहिए। इसके साथ ही हमेशा सज्जनों की संगत करनी चाहिए। 

इससे इंसान के व्यक्तित्व निखार आता है और इंसान गलत राह में जाने से बचता है। 

आचार्य चाणक्य की नीतियों के अनुसार, जो इंसान अपनी कमाई से संतुष्ट रहता है, उसको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

इसके साथ ही परिवार में आज्ञा मानने वाली पत्नी, सम्मान करने वाले संतान हों तो ऐसे व्यक्ति का जीवन स्वर्ग के समान हो जाता है।