जीवनसाथी चुनने से पहले रखना चाहिए इन बातों का ख्याल

आचार्य चाणक्य के अनुसार शादी के लिए किसी भी स्त्री की बाहरी सुंदरता से ज्यादा उसके आंतरिक गुणों को महत्व देना चाहिए।

रूप कुछ ही दिनों का मेहमान होता है, लेकिन व्यक्ति का गुण जीवनभर उसके साथ रहता है। ठीक इसी प्रकार महिलाओं को भी पुरुषों के गुण को महत्व देना चाहिए। 

गुणवान स्त्री - आचार्य चाणक्य के अनुसार किसी भी पुरुष को सुंदर स्त्री के पीछे भागने की जगह गुणवान स्त्री के साथ विवाह करना चाहिए।

गुणवान स्त्री आपके घर को स्वर्ग बना देगी साथ ही हर मुश्किल के समय वो साथ खड़ी होगी। 

गुस्सा नहीं करने वाली - गुस्सा इंसान का सबसे बड़ा शत्रु होता है।

आचार्य चाणक्य के अनुसार गुस्सा करने वाली स्त्री कभी भी आपको सुखी नहीं रख सकती है। 

इसलिए बात-बात पर क्रोध करने वाली की जगह गुस्सा नहीं करने वाली स्त्री के साथ विवाह करना चाहिए। 

धर्म-कर्म में आस्था - विवाह में स्त्री पुरुष के साथ ही दो परिवार के बीच भी रिश्ते बनते हैं।

धर्म-कर्म में विश्वास रखने वाला इंसान मर्यादित होता है और परिवार को समेट के रखता है। 

इसलिए विवाह से पहले इस बात के बारे में पता कर लेना चाहिए की लड़की की धर्म-कर्म के प्रति कितनी आस्था है।