व्यक्ति की तरक्की का राज हैं ये 5 चीजें, कभी न करें नजरअंदाज 

चाणक्य ने इस श्लोक के जरिए जीवन के उन महत्वपूर्ण चीजों पर गौर करने की बात कही है जो सफल पाने की रेस में मील का पत्थर साबित होते हैं।

आचार्य चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को हर कदम और हर कार्य को करने के लिए सही समय और सही जगह का इंतजार करना चाहिए। 

समय की कद्र ही सफलता की पहली सीढ़ी है। उचित समय पर किया गया कर्म हमेशा फलदायी होता है। 

व्यक्ति को हमेशा उसी जगह रहना चाहिए जहां उसके रोजगार के पर्याप्त साधन मौजूद हों। 

व्यक्ति की सफलता में मित्रों का अहम योगदान होता है, लेकिन व्यक्ति को सच्चे मित्र की पहचान करना बेहद जरूरी है। 

एक सच्चा मित्र न सिर्फ संकटों से बाहर निकालने में मदद करता है बल्कि आपके सही को सही और गलत को गलत कहने का दम भी रखता है। 

ये बहुत जरूर है कि अपने सच्चे और अच्छे मित्र को अपने से कभी दूर न करें, चाहे कैसे भी हालात क्यों न हो ये आपकी सफलता की टेढ़ी मेढ़ी डगर को आसान बनाने में मददगार साबित होंगे। 

आचार्य चाणक्‍य कहते हैं कि इंसान को कभी भी अपने स्वाभिमान के साथ समझौता नहीं करना चाहिए। 

आजीविका के लिए पैसा बहुत जरूरी है लेकिन धन कमाने के लिए अपनी काबिलियत को कभी दांव पर न लगाएं। 

व्यक्ति अपनी प्रतिभा और मेहनत से ही बुलंदियों को छूता है। इसी के साथ जरूरी है व्यक्ति को अपनी शक्ति और कमजोरी दोनों का भान हो। 

व्यक्ति को ईमानदारी से पैसा कमाना चाहिए और सेविंग से लेकर निवेश तक कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। 

पैसा कमाने के साथ बचत करना अति आवश्यक है जो व्यक्ति बुरे समय के लिए बचाकर नहीं रखता वो मूर्ख कहलाता है, उसे एक समय के बाद परेशानी का सामना करना पड़ता है।