इस एक गुण के बिना सफलता पाना है बहुत मुश्किल

चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति कार्य को शुरु करने से पहले ही हार मान जाता है, उसे पूरा करने का साहस नहीं जुटा पाता उसकी हार तय है।

साहस व्यक्ति का सबसे बड़ा गुण होता है। सफलता पाने की रेस में एक मौड़ ऐसा जरूर आएगा जब व्यक्ति को साहस का परिचय देना पड़ेगा। 

उस समय अगर वो हार मान गया तो जीती जिताई बाजी हार सकता है।

साहसी व्यक्ति हर मुसीबत से निपटना जानता है। ये एक ऐसा गुण है जिससे आपको विरोधी का सामना करने की हिम्मत आती है।

जिसने साहस का दामन थाम लिया उसे सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

साहस मनुष्य की सबसे बड़ी ताकत होता है, जब हर तरफ से निराशा हाथ लग रही हो और अगर मात्र साहस का सहारा हो तो व्यक्ति अंधकार से भी खुद को निकाल लेता है। 

जीवन उतार चढ़ाव से भरा पड़ा है, अगर व्यक्ति में हर मुश्किल घड़ी का सामना करने की हिम्मत है तो कामयाबी उसके कदम चूमती है। 

साहस के साथ समझदारी व्यक्ति का भविष्य तय करती है। कॉम्पटीशन के इस दौर में जिसमें साहस नहीं वो बहुत पीछे रह जाएगा। जिंदगी से रेस में हार निश्चित है।