इस खूबी वाले व्यक्ति को हराना है मुश्किल, सारी कोशिशें हो जाती हैं नाकाम

हर मनुष्य में कुछ खूबियां और खामियां जरूर होती है।  चाणक्य नीति में जीवन में किस व्यक्ति को हराना मुश्किल है ये बताया गया है। 

जिंदगी में कोई भी व्यक्ति परफेक्ट नहीं होता. गलतियां सबसे होती है, लेकिन अपनी गलतियों को स्वीकार कर उनसे सबक लेना हर किसी के बस की बात नहीं। ये साहस बहुत कम लोग कर पाते हैं।  

इस वाक्य के जरिए चाणक्य ने बताया है कि जो व्यक्ति अपने किए कर्मो और गलतियों पर विचार करता है, जूसरों से पहले खुद उनका सामना करता है उसे कोई हरा नहीं सकता। 

अपनी गलतियों पर पुन: विचार करने वाला व्यक्ति कभी हार नहीं सकता क्योंकि वो अपने किए पर खुद से ही सवाल-जवाब करता है। 

इस स्वभाव वाले व्यक्ति गलतियां करने पर ये जरूर सोचते हैं कि ये कैसे हुई, क्यों हुई, इसके परिणाम क्या होंगे, आगे से ऐसी गलतियां न हो इसके लिए क्या करें। 

ये तमाम सवाल कोई दूसरा करे इससे पहले ही वो खुद इनके  जवाब ढूंढता की कोशिश करता है

गलतियों से ही सीख लेकर इंसान आगे बढ़ता है। बशर्ते अपनी गलतियों को दोबारा न दोहराएं, तो जीवन में आपकी जीत पक्की है। 

ये खूबी सब में नहीं होती लेकर अगर इसे अपना लिया जाए तो कभी कोई आपको हरा नहीं पाएगा।