इस हालात में व्यक्ति को सांप की तरह करना चाहिए व्यवहार

आचार्य चाणक्य के अनुसार एक सफल इंसान को कभी अपनी कमजोरी किसी से साझा नहीं करनी चाहिए। 

ऐसा इसलिए क्योंकि बार-बार अपने कमोजर होने का जिक्र करने पर दूसरे आपका फायदा उठा सकते हैं। 

चाणक्य ने कथन में कहा है कि सांप के अंदर से जहर निकाल भी दिया जाए तब भी वो फुफकारना नहीं छोड़ता। 

उसके इस बर्ताव की वजह से दुश्मन हमला करने से पहले दो बार सोचता है। 

उसी प्रकार व्यक्ति जब कमजोर हो तब भी उसे अपनी इस हालत का दूसरों के सामने प्रदर्शन नहीं करना चाहिए।  दूसरो के सामने मजबूती से पेश आएंगे तो विरोधी आपको नुकसान नहीं पहुंचा सकते। 

जब परेशानियां एक साथ घेर लेती है तो व्यक्ति अपने दिल की बात दूसरों से कह देता है। 

क्योंकि उस वक्त वो खुद से लड़ रहा होता है और अपनी भावनाओं को संभाल नहीं पाता और दूसरों से साझा कर लेता है। 

कई लोग आपके इन्हीं हालातों का फायदा उठाते हैं। इस परिस्थिति में ध्यान रखें कि अपने मन की बात उन्हीं से शेयर करें जो आपका सच्चा मित्र हो।  जो हर दुख-सुख में आपका साथ देता हो।  जो आपको मोटिवेट करें।