चाणक्य नीति के अनुसार शातिर दोस्त की कैसे करें पहचान 

उन लोगों से बचकर रहे जो आपके मुंह पर मीठी बातें करते हैं. लेकिन मौका मिलते ही आपकी पीठ पीछे आपको बर्बाद करने की योजना बनाते है। 

ऐसा करने वाले व्यक्ति उस विष के घड़े के समान होता है जिसकी उपरी सतह दूध से भरी नजर आती है और अंदर होता है विष। 

इंसान को कभी भी उन लोगों से मित्रता या संबंध नहीं रखनी चाहिए जो आपके सामने तो बहुत ही अच्छे बनते हैं। 

लेकिन पीठ पीछे आपकी ही दूसरों से बुराई करने से बिल्कुल भी नहीं चूकते हैं।

ये लोग आपको कब किसी भी साजिश में फंसा दें कुछ कहा नहीं जा सकता है।  ये लोग मौका मिलते ही आपको बर्बाद कर सकते हैं। 

आपकी हर योजनाओं में पानी फेर सकते हैं। इसलिए ऐसे व्यक्तियों से आपको सतर्क रहना चाहिए। 

चाणक्य ने लिखा है ऐसे व्यक्ति आपके सामने बिल्कुल घड़े में भरे दूध के समान नजर आएंगे। 

लेकिन पीठ पीछे आपकी ही दूसरों से बुराई करने से बिल्कुल भी नहीं चूकते हैं।