मजबूत रिश्तों को भी खराब कर देता है अहंकार 

झूठ न बोलें - एक सुखद दांप्तय जीवन जीने के लिए कोई निश्चित रूपरेखा नहीं होती है। 

लेकिन आचार्य चाणक्य के अनुसार किसी भी तरह के रिलेशन को सुखद रखने के लिए पार्टनर्स को एक दूसरे से झूठ नहीं बोलना चाहिए। 

झूठ मजबूत से मजबूत रिश्तों को भी खराब कर सकता है। 

शक न करें - अधिकतर लव रिलेशन व्यक्ति के शक्की स्वाभाव के कारण बिगड़ जाते हैं। परिस्थिति यहां तक पहुंच जाती हैं कि दोनों एक दूसरे से अलग हो जाते हैं। 

इसलिए पति-पत्नि को कभी भी एक दूसरे पर शक नहीं करना चाहिए। दांपत्य जीवन में रह रहे लोगों को इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए। 

दूसरें का करें सम्मान - चाणक्य अनुसार जिस भी व्यक्ति में विनम्रता का स्वाभाव होता है वो कठिन से भी कठिन परिस्थिति को भी आसानी से सुलझा लेता है। 

यदि पति-पत्नी में एक दूसरे के लिए सम्मान नहीं होता है तो दोनों के रिश्ते लंबे समय तक नहीं चल सकते हैं। 

कभी न करें अहंकार - चाणक्य के अनुसार जिस भी रिश्ते में अहंकार आ जाता है वह रिश्ता बर्बाद हो जाता है। 

खास करके पति-पत्नी में अहंकार का कोई भी स्थान नहीं होना चाहिए। अहंकार के कारण व्यक्ति समाज में आपना मान-सम्मान भी खो देता है।