इन 2 चीजों पर न करे यकीन, हाथो आई सफलता छूट जाएगी

चाणक्य कहते हैं कि कामयाबी मेहनत से पाई जा सकती है। 

जो लोग मुश्किल घड़ी में भी अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए डटे रहते हैं और उनसे पार पा लेते हैं कामयाबी उनके कदम चूमती है। 

वहीं भाग्य के भरोसे रहने वाले यानी की जो ये सोचते हैं कि नसीब में लिखे को कौन मिटा सकता है वो सदा असफल होते हैं। 

ऐसे लोग सफलता के करीब पहुंचकर अगर उसे प्राप्त नहीं कर पाते। 

किस्मत पर नहीं कर्म पर भरोसा करें।  मेहनत के बलबूते ही व्यक्ति कामयाबी पा सकता है। 

सफलता का सूत्राधार है पुरुषार्थ, पुरुषार्थ कभी व्यर्थ नहीं जाता।  तरक्की चाहते हैं तो इन चार गुणों चतुराई, बुद्धिमता, मेहनत और मनोबल पर फोकस करें। 

सपने उन्हीं के पूरे होते हैं जो अपने दम पर उन्हें पाने की क्षमता रखता है। 

अगर आप अपने काम को दूसरों के भरोसे छोड़ेंगे तो लक्ष्य से दूर होते जाएंगे। क्योंकि सपने आपके हैं तो उसे पूरा करने की जिम्मेदारी भी आपकी ही है। 

दूसरे या तो काम बिगाड़ देते हैं या फिर लापरवाही में उसे समय से पूरा नहीं करते। वन मैन आर्मी बनें, ये आपको टॉप पर पहुंचा सकती है।