इन विषयों पर हमेशा करते रहें सोच-विचार, मिलती रहेगी सफलता

चाणक्य नीति में कई ऐसी बातें बताई गई हैं, जिनका ध्यान रखकर व्यक्ति सफलता की ओर बिना रुके आगे बढ़ सकता है। ऐसे ही एक शिक्षा आचार्य चाणक्य ने यह भी दी है कि व्यक्ति को सफलता के लिए बार-बार किस विषय में सोचना चाहिए। आइए जानते हैं-

कैसा समय है? मेरा मित्र कौन है? स्थान कैसा है? आय-व्यय के क्या साधन हैं? मैं कौन हूं और मेरी क्या शक्ति है? इन सभी विषयों के बारे में बार बार सोचना चाहिए।

चाणक्य नीति के इस श्लोक में आचार्य ने यह समझाया है कि व्यक्ति को 6 विषयों पर हमेशा विचार करते रहना चाहिए और उसी मार्ग पर चलते हुए कार्य करना चाहिए।

सबसे पहले समय को आचार्य चाणक्य ने बहुत मूल्यवान बताया है। जो व्यक्ति समय का पालन सही रूप से करता है, वही हमेशा सफल बनता है।

दूसरा विषय मित्र है। जो व्यक्ति अच्छे मित्रों की संगत में रहता है, उसे कोई भी बुरी शक्ति अपने वश में नहीं कर सकती है।

आचार्य चाणक्य ने तीसरा विषय स्थान को बताया है। जो व्यक्ति जिस स्थान पर रहता है, उसकी उन्नति के लिए हमेशा सोचता है वही श्रेष्ठ कहलाता है।

साथ ही सद्मार्ग पर चलते किस आय अर्जित करे, इसके विषय में भी व्यक्ति को हमेशा सोचना चाहिए।

अंत में उन्होंने स्वयं के विषय में और स्वयं की शक्ति के विषय में बताया है।

जो व्यक्ति आत्मचिंतन कर स्वयं को पहचानता लेता है, वही अपनी शक्तियों का सही इस्तेमाल करता है।